इतिहास ए यदुवंश (महाराज कुंवरसा बिजेंद्र पाल जी-महाराज कुंवरसा सुरेन्द्र पाल जी)

इतिहास ए यदुवंश (महाराज कुंवरसा बिजेंद्र पाल जी-महाराज कुंवरसा सुरेन्द्र पाल जी)


महाराज कुंवरसा बिजेंद्र पाल जी

कुंवर बिजेंद्र पाल जी का जन्म करौली महलो सन् 1926 में हुआ था । इनकी पत्नी कुंवरानी धैर्यकुमारी जी थी । यह सरल ह्रदय और मृदु भाषी थे । यह करौली क्षेत्र से 20 साल तक लगातार विधायक भी रहे थे । करौली में जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय तथा जिला चिकित्सालय खुलवाने में इनका विशेष योगदान था । इनकी व्यवहार कुशलता ,सरलता और खुशमिजाजी की आज भी जनता प्रशंसा करती है ।

ईश्वर भक्त होने के साथ इन्हें शिकार का भी शौक था । यह आदर्श कला प्रेमी थे । तथा श्री कैलादेवी मंदिर का कार्यभार भी इनके ही जिम्मे था । इन्होंने कैलादेवी का इतिहास नामक पुस्तक भी लिखी थी । 9 अगस्त 1983 को ह्रदय गति रुक जाने के कारण 57 वर्ष की आयु में इनका निधन हो गया था इनके कोई संतान नही थी ।

 

महाराज कुंवरसा सुरेन्द्र पाल जी

maharaj kumar surendra pal ji karauli

कुंवर सुरेन्द्र पाल जी का जन्म करौली महलो सन् 1937 में हुआ था । इनकी पत्नी कुंवरानी नरेंद्र देवी जी थी । यह सरल ह्रदय और मृदु भाषी थे । इनकी सरलता और भोले स्वभाव की आज भी जनता प्रशंसा करती है । ईश्वर भक्त होने के साथ इन्हें शिकार का भी शौक था । यह आदर्श कला प्रेमी थे । तथा श्री मदन मोहन जी मंदिर का कार्यभार भी इनके ही जिम्मे था । 24 मई 1982 को जयपुर से करौली आते समय दौसा से करीब 8 किमी दूर कार दुर्घटना में 45 वर्ष की आयु में इनका निधन हो गया था ।

इनके लड़के श्री कृष्ण चंद्र पाल जी थे जो कि गणेश पाल जी के बाद गद्दी पर विराजे हुए है ।

RELATED LINK

QUICK ENQUIRY

ABOUT

Karaulians का मुख्य उद्देश्य राजस्थान के इतिहास एवं ऐसा इतिहास जो किन्ही परिस्थितियों के कारण इतिहास के पन्नो में संकुचित सा होकर रह गया है, को डिजिटल माध्यम से जन जन तक पहुंचाने का है | राजस्थान, जो की शुरू से ही पर्यटन स्थलो से परिपूर्ण रहा है परन्तु वहाँ के कुछ छुपे हुए पर्यटन स्थल जो आकर्षक और अदभुत होने के बाद भी सैलानियों की नजरों से अभी भी दूर है, उन्हें भारत के पर्यटन स्थलों की सूची की पृष्ठभूमि पर लाने को "करौलियंस टीम" प्रयासरत है| Karaulians आपको एक ऐसा प्लेटफॉर्म देने के लिए अग्रसर है जहां आप चाहे तो खुद भी अपने ज्ञान को लोगो तक पहुंचा सकते हैं । Karaulians पर आप अपना अकाउंट बना कर खुद अपना ब्लॉग लिख और प्रसारित कर सकते है । धन्यवाद " Founders- दे व रा ज पा ल & आ शी ष पा ल

FOLLOW US

Karaulians